क्या इंडिया से हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट की पढ़ाई करना सही है

यहां पर हम लोग यह बात करने वाले हैं कि क्या इंडिया से हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट की पढ़ाई करना सही है। क्योंकि भारत जैसे देश में दिन – प्रतिदिन hospitality management students की संख्या बढ़ती जा रही है। इसके साथ साथ हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट डिग्री देने वाले कॉलेजों और यूनिवर्सिटी की संख्या भी बढ़ रही है।

अगर आप भारत देश में रहते हैं और होटल मैनेजमेंट की डिग्री करना चाहते हैं। तो यह आपके लिए सबसे बढ़िया मौका है क्योंकि भारत देश में भी होटल मैनेजमेंट कॉलेज बहुत बड़े पैमाने पर उपलब्ध हैं और दिन प्रतिदिन भारत में भी होटल मैनेजमेंट स्टूडेंट्स की संख्या बढ़ते ही जा रही है। इसलिए अगर आप भारत देश में रहते हैं तो भारत से होटल मैनेजमेंट की डिग्री जरूर करें।

आप किसी भी देश से हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट की पढ़ाई कर सकते हैं। लेकिन आपको इससे पहले वहां के जीडीपी को देखना होगा कि उस देश की जीडीपी कैसी है वहां पर टूरिज्म कैसा है। वहां की हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री कैसी है इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए आप किसी भी देश से होटल मैनेजमेंट स्टडी कर सकते हैं।

सबसे पहले हम लोग यह बात करेंगे कि इंडिया में हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट करने के क्या-क्या फायदे हैं और उसके बाद हम लोग यह जानेंगे कि इंडिया में हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट करने के क्या-क्या नुकसान हैं। यहां पर हम लोग फायदे के साथ साथ हैं नुकसान के बारे में भी बात करेंगे। क्योंकि इंडिया से हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट की पढ़ाई करने के फायदे और नुकसान दोनों ही हैं।

इंडिया में हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट करने के क्या-क्या फायदे हैं : –

क्या इंडिया से हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट की पढ़ाई करना सही है
क्या इंडिया से हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट की पढ़ाई करना सही है

इंडिया से हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट करने के बहुत सारे फायदे हैं अगर आप भारत देश में रहते हैं और यहां से होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई करना चाहते हैं। तो इसके लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम देकर एक अच्छे कॉलेज में एडमिशन लेना होता है। उसके बाद आप अपनी हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट स्टडी शुरू कर सकते हैं।

अगर आपके पास होटल मैनेजमेंट फीस देने के लिए अधिक पैसा नहीं है। तो आप इंडिया से हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट की पढ़ाई कर सकते हैं हालांकि भारत देश में भी fee अधिक ही है। लेकिन भारत देश से बाहर की अपेक्षा बहुत कम है। इसलिए अगर आप भारत जैसे देश से अपनी पढ़ाई करते हैं तो आपको fee कम देनी पड़ेगी।

बहुत सारे विद्यार्थी अपने घर से दूर नहीं जाना चाहते हैं अपने देश में ही रहकर अपनी पढ़ाई पूरी करनी चाहते हैं। तो अगर आप भारत देश में रहकर होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई करते हैं।

तो यह आपके लिए बहुत बढ़िया मौका है। और भारत जैसे देश में पहले की अपेक्षा हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री में बहुत तरक्की किया है। इन्हीं सब बातों को देखते हुए होटल मैनेजमेंट कराने वाले संस्थानों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।

जब आप भारत देश में रहकर होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई करेंगे। तो आप भारत में होने वाले हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट की पढ़ाई को अच्छे से समझेंगे। जिसके बाद आप भारतीय कल्चर को अच्छे से समझने में सफल हो पाएंगे। क्योंकि होटल मैनेजमेंट पढ़ाई के दौरान आपको ऐसी बहुत कुछ बातें भी सिखाई जाती है जो कि आपके अंदर बहुत इंप्रूवमेंट लाती हैं।

इंडिया में Hotel management करने के क्या-क्या नुकसान हैं : –

अब अगर हम नुकसान की बात करें कि इंडिया में हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट की पढ़ाई करने के बाद। आपको क्या क्या नुकसान हो सकते हैं तो कुछ भी हैं जो आपको जानना चाहिए।

अगर आप भारत में हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट की पढ़ाई करते हैं और इसके बाद अगर आप विदेश जाना चाहते हैं। इंडिया के बाहर जाकर होटल मैनेजमेंट जॉब करना चाहते हैं। तो इसके लिए आपको अपने देश में कुछ समय देना होगा उसके बाद आप इंडिया से बाहर जाने के लिए सक्षम हो पाएंगे। और अगर यही पर आप बाहर से अपने मैनेजमेंट की पढ़ाई करते हैं। तो आपको अपने सपने पूरे करने हैं ज्यादा समय नहीं लगेगा।

अगर आप भारत से hospitality management की पढ़ाई करते हैं तो आप बाहर के देशों मैं होटल में किस तरह से काम होता है। उन बातों को आप अच्छे तरीके से नहीं जान पाएंगे और अगर आपको जा जाना होगा।

तो आपको पहले अपने देश में दो-तीन साल का होटल में काम करने का एक्सपीरियंस लेना होगा उसके बाद जब आप विदेश जाना चाहे। तो वहां पर जाकर यह जान सकते हैं कि वहां के होटलों में कामों को कैसे किया जा सकता है।

सबसे बड़ी बात यह हो जाती है कि इंडिया में होटल मैनेजमेंट सैलेरी शुरुआती दौर में कम दिया जाता है। लेकिन अगर यही पर आप इंडिया से बाहर जाकर जॉब करते हैं। आपको शुरुआती सैलरी अधिक दी जाएगी जिससे आप अपने आप को अधिक सुखी और संपन्न महसूस करेंगे।

भारत से hospitality management की पढ़ाई करने पर आपकी इंग्लिश और कम्युनिकेशन स्किल इतनी अच्छे से इंप्रूव नहीं होती है। जितना कि अगर आप भी देशों के होटल मैनेजमेंट कॉलेज में पड़ेंगे तो होगा। विदेशों में होटल मैनेजमेंट कॉलेजों द्वारा अधिक fee लिया जाता है इसलिए वहां की पढ़ाई उच्च स्तर पर की जाती है।

निष्कर्ष : –

अगर आप जिस देश में रहते हैं वहां की हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री बहुत अच्छी है। वहां पर बहुत सारे लोग हर साल घूमने के लिए आते हैं तो आप वहां से hospitality management की पढ़ाई कर सकते हैं। लेकिन अगर आप किसी ऐसे देश में रहते हैं जहां की ज्यादातर लोग घूमने के लिए नहीं आते हैं। और वहां पर बड़े-बड़े होटलों की संख्या भी नहीं है। तो आपके लिए इस तरह के देश से होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई करना सही नहीं रहेगा।

तो इस स्थिति में आपको उन देशों की तरफ ध्यान देना चाहिए। जहां की आर्थिक व्यवस्था सही हो और वहां पर जो होटल मैनेजमेंट कॉलेज हैं। उसकी fee देने में सक्षम है क्योंकि विदेशों में होटल मैनेजमेंट की फीस अधिक होती है। तो आप उस देश से होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई करें जो कि आपके भविष्य के लिए बहुत अच्छा साबित होगा।

इसके साथ-साथ आपको होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई करने के साथ-साथ आपको ऐसे बहुत तरह के स्किल्स भी सीखने होंगे। जो कि जब आप जॉब करेंगे तो आपको काम देंगे। यह जो आपके पास एक्स्ट्रा स्किल होगा यह आपको किसी भी होटल में प्रोग्रेस करने में बहुत मदद करेगा।

Leave a Comment